मेरा प्रिय खेल (क्रिकेट पर निबंध-2021) Mera Priya Khel Par Nibandh

दोस्तो, आज हम मेरा प्रिय खेल पर निबंध (Mera Priya Khel Par Nibandh) को विस्तृत मे जानेगे ।

यह निबंध आपको स्कूल के हर क्लास, कॉलेज या किसी प्रतियोगिता मे भी काम आने वाला है ।

हर किसी के जीवन मे एक खेल तो उसका प्रिय होता है । वैसे ही मेरा प्रिय खेल क्रिकेट है । और इस निबंध मे आज हम मेरा प्रिय खेल यानि क्रिकेट के बारे मे जानेगे ।

क्रिकेट हमारे देश का सबसे प्रसिद्ध खेल है । लेकिन क्रिकेट ही क्यो भारत का सबसे प्रसिद्ध खेल बना ? इसको भी हम समजेगे ।

हम पर भरोसा करें, मेरा प्रिय खेल पर निबंध को पढ़ने के बाद शायद ही आपके मनमे इसके बारे मे कोई संदेह रहेगा ।

तो चलिए शुरू करते है ।

 

Mera Priya Khel Essay in Hindi- मेरा प्रिय खेल पर निबंध

 

प्रस्तावना :-

क्रिकेट यानि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई देशों द्वारा खेला जाने वाला एक आउटडोर खेल ।

एक खुले मैदान पर बल्ले और गेंद के सहयोग से क्रिकेट को खेला जाता है ।

क्रिकेट से जुड़े नियम का संचालन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद द्वारा किया जाता है ।

क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल भी कहा जाता है । क्योकि इसमे अंत तक कोई निश्चित नहीं होता की कोन जीतेगा या कोन हारेगा । और इसीलिए शायद यह मेरा सबसे पसंदीदा खेल है ।

 

भारत में क्रिकेट का इतिहास :-

वैसे क्रिकेट के इतिहास का कोई ठोस प्रमाण तो नहीं मिलता लेकिन एसा कहा जाता है की, सबसे पहले 16 वीं शताब्दी के मध्य मे इंग्लैंड मे क्रिकेट खेला गया था ।

इसीलिए इंग्लैंड को क्रिकेट का जन्मदाता कहा जाता है । उस समय यह खेल लकड़ी के डंडे और ऊन के गोलो से खेला जाता था ।

लेकिन समय के साथ क्रिकेट मे धीरे-धीरे बदलाव आने लगा और उसके कुछ सालो बाद ही यह खेल बल्ले और गेंद से खेला जाने लगा ।

उन दिनों क्रिकेट बहोत लोकप्रिय हो रहा था, और इसीलिए इंग्लैंड ने क्रिकेट को 18 वीं शताब्दी मे ही अपना राष्ट्रीय खेल बना लिया ।

उस समय विश्व के कई देशो मे अंग्रेज़ो की हुकूमत थी, जिसके कारण क्रिकेट को विश्व स्तर विकसित होने मे देर नहीं लगी । और हमारे देश मे भी इसी तरह क्रिकेट का प्रवेश हुआ था ।

mera priya khel cricket

कुछ लोगो का एसा मानना है की, अंग्रेज़ भारत के राजाओं का ध्यान सत्ता से हटाने के लिए इस खेल को भारत लाये थे ।

इस खेल से अंग्रेज़ो को बहोत फायदा होता था, इसीलिए अंग्रेज़ो ने इस खेल को भारत के साथ-साथ पाकिस्तान, बांग्लादेश और कई देशो मे फैलाना शुरू कर दिया । और देखते-ही-देखते क्रिकेट पूरे विश्व मे प्रसिद्ध होने लगा ।

अब तक क्रिकेट मे 100 से अधिक देश जुड़ गए है, और इन सभी देशो मे क्रिकेट का शासन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानि ICC करती है ।

वर्तमान मे हमारे देश की क्रिकेट का संचालन BCCI (Board of Control for Cricket in India) करती है ।

सबसे पहला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच 1844 मे अमेरिका और कैनेडा के बीच वर्जीनिया मे खेला गया था ।

शुरुआती दिनों में क्रिकेट के एक ओवर मे मात्र 4 गेंदे हुआ करती थी । लेकिन 1947 मे इस नियम में संशोधन करके एक ओवर में छह गेंदे डालने का नियम बनाया गया ।

और 1877 मे पहली बार अंतरराष्ट्रीय पांच दिवसीय टेस्ट क्रिकेट मैच इंगलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न मे खेला गया । इस टेस्ट को ऑस्ट्रेलिया ने 45 रनों से जीत लिया था ।

भारत मे पहली बार 1864 में मद्रास और कलकत्ता के बीच राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट मैच खेला गया था ।

रणजीत सिंह जी भारत देश के पहले एसे खिलाड़ी थे जो 1896 मे इंग्लैंड की तरफ से ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेले थे ।

और भारत ने अपना पहला मैच सी.के.नायडू की कप्तानी में इंग्लैंड के विरुद्ध खेला था । दुर्भाग्यवश इस मैच मे भारत हार गया था । लेकिन भारत ने अपनी पहली जीत इंग्लैंड के खिलाफ ही हासिल करी थी ।

आज भारत की क्रिकेट टिम विश्व की सबसे सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट टिम है । इस टिम को हराना बहोत ज्यादा मुश्किल है ।

इसीलिए तो अब तक भारत 2 बार विश्व कप, 1 बार टी20 वर्ल्ड कप और दो बार आईसीसी चैंपियन ट्रॉफी का खिताब जीत चुकी है ।

 

(ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध, एक बार जरूर पढे)

 

क्रिकेट खेलने की प्रक्रिया :-

दुनिया मे हर चीज़ के कुछ नियम बनाए जाते है, जिसे समजे बिना हम उस चीज़ को सही तरीके से नहीं कर पाते ।

और एसे ही क्रिकेट के खेल मे भी बहोत सारे नियम बनाए गए है । जिसका अनुसरण करना हर क्रिकेटर का कर्तव्य होता है । इन नियमो को बिना जाने कोई भी व्यक्ति क्रिकेट को सही तरीके से नहीं खेल सकता ।

जिसमे सबसे पहला नियम यह है की, जब तक खेल का मैदान सूखा न हो तब तक मैच शुरू नहीं की जा सकती ।

mera priya khel par nibandh

क्योकि गीले मैदान पर फिसलन होती है, जिससे किसी खिलाड़ि को चोट लगने की समस्या रहती है ।

उस पूरे मैदान का व्यास 130 से 150 मी. होना चाहिए । इन मैदानो के बीचो-बीच एक पिच तैयार की जाती है, जिस पर खेलाडीओ द्वारा बल्लेबाजी और गेंदबाजी की जाती है ।

क्रिकेट की पीच 22 गज लंबी और 10 फीट चौडी होनी चाहिए । इस पिच के दोनों छोर पर तीन-तीन स्टंप लगाए जाते है, जिसकी चौड़ाई 1 इंच होती है ।

पुरुषों की मैच में गेंद 155.9 से 163 ग्राम के बीच होनी चाहिए और बल्ले की लंबाई 38 इंच और चौड़ाई 4.25 इंच से अधिक नहीं होनी चाहिए । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

क्रिकेट की प्रत्येक टीम में 11-11 खिलाड़ियों का होना जरूरी है । इसके अलावा टीम में दो-चार खिलाड़ी ज्यादा होते है ।

ताकि अगर किसी खिलाड़ी को खेलते समय चोट लग जाए तो उनकी जगह पर इन खिलाड़ी को खिलाया जा सके ।

दोनों टीमें बारी-बारी बल्लेबाजी या गेंदबाजी करती है । लेकिन कोन पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करेगा ये टॉस से निर्धारित होता है ।

बल्लेबाजी करने वाली टीम के 2 व्यक्ति पिच के दोनों ओर खड़े हो जाते है ।

एक बल्लेबाज तब तक बल्लेबाजी कर सकता है, जब तक वो आउट ना हो । और एक गेंदबाज अपना ओवर पूरा होने तक गेंदबाजी कर सकता है ।

गेंदबाजी करने वाली टीम में से एक खिलाड़ी गेंद को बल्लेबाज की तरफ फेकता है और बाकी टीम के सभी व्यक्ति गेंद को रोकने के लिए खड़े हो जाते है ।

प्रत्येक ओवर में 6 गेंदे फेकी जाती है, परंतु अगर गेंद वाइड चली जाए तो बल्लेबाजी करने वाली टीम को 1 रन फ्री मे मिल जाता है । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

एक टीम के जब तक सभी ओवर खतम ना हो या फिर टीम के सभी बल्लेबाज आउट ना हो तब तक वो खेल सकती है । अंत मे जो भी टीम अधिक रन बनाती है वो विजयी बनती है ।

इन खेलड़ियों के बीच दो अंपायर मैदान के अंदर होते है और एक अंपायर मैदान के बाहर होता है । बाहर बैठे अंपायर का काम विशेष परिस्थितियों में वीडियो देखकर निर्णय करना होता है ।

और इस तरह दुनियाभर मे खुशी के साथ क्रिकेट खेली जाती है ।

 

(डिजिटल इंडिया पर एक जबरदस्त निबंध, पढ़ना न भूले)

 

क्रिकेट के प्रकार :-

क्रिकेट मे मुख्य तीन प्रकार है टेस्ट क्रिकेट, वन-डे क्रिकेट और टी 20 क्रिकेट । इसको हम बारी-बारी समजेगे ।

 

टेस्ट क्रिकेट :

जब क्रिकेट की शुरुआत हुई, तब सिर्फ टेस्ट मैच ही खेला जाता था । उन दिनों टेस्ट मैच बहोत ही लोकप्रिय हुआ करती थी ।

टेस्ट मैच मे दोनों टीमों को दो बार बल्लेबाजी और गेंदबाजी करने का अवसर या मौका मिलता है । जिसमे प्रत्येक दिन 50 ओवर डाली जाती है ।

सबसे पहली टेस्ट मैच 15 मार्च 1877 से 19 मार्च 1877 को इंगलैंड और ऑस्ट्रेलिया बीच मेलबर्न मे खेला गया था । इस मैच को ऑस्ट्रेलिया ने 45 रनों से जीत लिया था ।

mera priya khel essay in hindi

क्रिकेट के इस प्रकार ने विश्व को अनगिनत महान हस्तिया दी है, जिसमे सर डॉन ब्रैडमैन, कपिल देव, डेनिस लिली, सचिन तेंदुलकर और रिकी पोंटिंग जैसे बड़े नाम शामिल है ।

लेकिन वर्तमान मे टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता धीरे-धीरे कम होती जा रही है । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

क्योकि टेस्ट मैच पांच दिवसीय मैच होता है, जिसमे कई बार तो 5 दिन के बाद भी यह खेल बिना किसी निर्णय के ख़त्म हो जाता है ।

 

वन डे क्रिकेट :-

इसके तो नाम ही मे इसका अर्थ है, एक दिवसीय क्रिकेट । आज के समय मे वन डे क्रिकेट बहोत ही लोकप्रिय है ।

वन डे क्रिकेट शुरुआत से नहीं था, इसका जन्म टेस्ट क्रिकेट से हुआ है । और इसकी एक मज़ेदार कहानी है ।

हुआ यू की, 5 जनवरी 1971 के दिन इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक टेस्ट मैच खेला जा रहा था ।

लेकिन टेस्ट मैच के दौरान ही लगातार 3 दिन मूसलाधार वर्षा हुई । जिसकी वजह से मैच को रद्द करना पड़ा ।

खेल को रद्द करने की वजह से दर्शक काफी असंतोष और निराशा हुए ।

और दर्शको के इसी असंतोष और निराशा को देख कर आईसीसी ने फैसला किया कि मैच 40-40 ओवरो का खेला जाएगा । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

अंत मे इस मैच को ऑस्ट्रेलिया ने जीत लिया और इस मैच को देख कर दर्शक भी काफी खुश हुए । और माना जाता है कि, यहीं से वनडे क्रिकेट का जन्म हुआ था ।

शुरुआती दिनो मे वन-डे क्रिकेट 60 ओवर का हुआ करता था । लेकिन साल 1987 मे एक संशोधन हुआ, जिसके मुताबिक अब वन-डे क्रिकेट 50 ओवरो का होगा । और तभी से वन-डे क्रिकेट 50 ओवरो का हो गया ।

समय के साथ-साथ क्रिकेट मे कई नई चीजें और नए-नियम बनाए गए ।

वन-डे क्रिकेट मे सबसे बड़ी प्रतियोगिता वर्ल्ड कप है, जो हर चार साल में आयोजित की जाती है । इसका इंतजार पूरा विश्व करता है ।

वन-डे क्रिकेट मे सबसे ज्यादा रन और शतक लगाने का रिकॉर्ड भारत के खेलाडी सचिन तेंदुलकर के नाम है ।

 

टी-20 क्रिकेट :

टी-20 क्रिकेट थोड़े समय पहले ही क्रिकेट मे लाया गया है । इसमे मात्र 20- 20 ओवरों का खेल होता है और सिर्फ 3-4 घंटो मे ही समाप्त हो जाता है ।

लेकिन वर्तमान मे क्रिकेट के सभी प्रकारो मे से टी-20 क्रिकेट सबसे ज्यादा लोकप्रिय है ।

क्रिकेट मे सबसे ज्यादा रोमांच इसी मे होता है । कई बार तो दिल की धड़कन रोक देने वाले मुक़ाबले टी-20 क्रिकेट मे होते है ।

विश्व का सबसे पहला टी-20 मैच 17 फरवरी 2005 को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया था । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

इसी का एक प्रकार है, इंडियन प्रीमियर लीग । यह भी बिलकुल टी-20 क्रिकेट की तरह ही होता है । लेकिन इसमे सिर्फ भारत के नहीं परंतु पूरी दुनिया के खिलाड़ी हिस्सा लेते है ।

इन सभी खिलाड़ियों का चयन भारत के अलग-अलग राज्यों द्वारा बनी टीम के तहत होता है । फिर इन सभी टीमो के बीच 2 महीनों तक मैच होते है ।

इसके अलावा देश में और भी कई प्रकार की ट्रॉफीयो का आयोजन किया जाता है । जैसे की रणजी ट्रॉफी, ईरानी ट्रॉफी, रानी झांसी ट्रॉफी, शीश महल ट्रॉफी, बजी ट्रॉफी और दिलीप ट्रॉफी आदि ।

 

आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) :-

वर्तमान मे आईसीसी (आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) क्रिकेट के सभी मैच का संचलित करती है ।

जिसमे वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप, क्रिकेट विश्व कप, महिला क्रिकेट विश्व कप, आईसीसी टी 20 विश्व कप, आईसीसी महिला टी 20 विश्व कप, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी, और अंडर -19 क्रिकेट विश्व कप शामिल है ।

ऑस्ट्रेलिया मे इंपीरियल क्रिकेट सम्मेलन के नाम से 1909 मे इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, और साउथ अफ्रीका के प्रतिनिधियों ने इसकी शुरुआत की थी ।

mera priya khel nibandh

लेकिन 1945 मे उसका नाम बदलकर आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सम्मेलन और 1949 आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद रखा गया ।

आज आईसीसी मे करीब 108 देश शामिल है । परंतु उसमेसे पूर्ण सदस्यता सिर्फ 12 देशो कों ही दी गयी है । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

और जिस देश को पूर्ण सदस्यता मिलती है, वही देश की टीम टेस्ट मैच खेल सकती है ।

इसके अलावा राष्ट्रीय स्तर पर भी क्रिकेट को संचालित करने के लिए हर एक देश की अलग-अलग क्रिकेट परिषद होती है ।

उनका काम अपने देश मे क्रिकेट को प्रोत्साहन देना और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए अपने देश के खिलाड़ीयो को तैयार करना है ।

विश्व की सभी राष्ट्रीय क्रिकेट परिषदो मे से भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद सबसे ज्यादा अमीर है ।

 

(योग का महत्व पर निबंध)

 

भारत में क्रिकेट की लोकप्रियता :-

भारत मे क्रिकेट का जोश और महत्व किसी भी त्यौहार से कम नही है ।

वर्ल्डकप की फाइनल हो या कोई जबरदस्त दो टीमों के बीच मैच हो तो लोग ऑफिस और स्कूल से छुट्टी ले लेते है ।

खास कर जब भारत पाकिस्तान की मैच होती है, तब हमारे देश का माहौल ही कुछ अलग होता है ।

उस दिन भारत के सभी लोग टीवी के सामने बैठ कर इन मैचो का मज़ा लेता है ।

और जब हम मैच जीत जाते है, तब लोग सड़कों पर उतर कर इसका जश्न मानते है । देश मे बम और पटाखे फोड़ कर ढ़ोल बजाया जाता है ।

essay on mera priya khel in hindi

जब हमने 2011 का वर्ल्ड कप जीता था, तब पूरा भारत एक अलग ही जश्न में डूब गया था ।

लेकिन अगर हमारी टीम कोई महत्वपूर्ण मैच हार जाए या कोई खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन ना करे तो लोग उसके खिलाफ हो जाते है । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

उसका सोशल मीडिया पर मज़ाक बनाते है । लेकिन यह सब गलत है ।

इस समय तो हमे अपनी टीम के साथ होना चाहिए । क्योकि इस समय सबसे ज्यादा दुखी हमारे खिलाड़ी होते है । 

और खेल मे कोई जीत हासिल करता है तो कोई हार । हमे प्यार हार और जीत से नहीं, बल्कि खेल से होना चाहिए ।

 

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टीमे और भारत के कुछ प्रसिद्ध खिलाड़ी :-

विश्व के कई देशो मे क्रिकेट को खेला जाता है । लेकिन आईसीसी ने मुख्य तौर पर 16 देशो की टीमो को ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टीम मे शामिल किया है ।

जिसमे इंडिया, पाकिस्तान, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, वेस्ट इंडीज, बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान, जिम्बाब्वे, आयरलैंड, केन्या, नीदरलैंड, कैनेडा, स्कॉटलैंड जैसे देश शामिल है ।

क्रिकेट ने भारत को कई एसे सितारे दिये है, जिनको हम कभी नहीं भूल सकते । (Mera Priya Khel Par Nibandh)

जिसमे कपिल देव, सुनील गावस्कर, विजय हजारे, अनिल कुंबले, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, सचिन, गौतम गंभीर, इरफान पठान, वीरेंद्र सहवाग, हरभजन सिंह, आशीष नेहरा, युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली जैसे बड़े नाम शामिल है ।

 

निष्कर्ष :-

इतना सब कुछ जानने के बाद शायद अब आप लोगो को पता चल गया होगा की, आखिर क्यो भारत मे क्रिकेट को इतना ज्यादा पसंद किया जाता है ?

और इस खेल को हमे भी खेलना चाहिए, क्योकि इससे हमारा स्वास्थ्य और उत्साह बढ़ता है । इसके साथ-साथ हमारा मानिसक विकास बहोत अच्छा होता है ।

अब मे आखिर मे आपसे पूछना चाहता हु की, क्या अब आप लोग क्रिकेट खेलेंगे या नही ? और अपने पसंदीदा क्रिकेटर का नाम कमेंट मे जरूर बताए ।

और आपको यह मेरा प्रिय खेल पर निबंध (Mera Priya Khel Par Nibandh) कैसा लगा ?

हमने पूरी कोशिस की है, ताकि आपको सरल ओर साधारण भाषा मे मेरा प्रिय खेल पर निबंध दे सके । लेकीन फिर भी आपको कोई समस्या हो तो आप हमे email करे ।

और अगर आपको किसी और विषय पर भी निबंध चाहिए तो हमारी कॉमेंट मे बताना न भूले । और इस निबंध को अपने बचपन के दोस्तो तक पहोचाना भी न भूले । ( please share )

Thanks for reading Mera Priya Khel Par Nibandh

 

READ MORE ARTICLES :-

 

महिला सशक्तिकरण पर निबंध

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध

जवाहरलाल नेहरू पर जबरदस्त निबंध

बॉस के लिए विदाई भाषण

अध्यापकों (शिक्षको) के लिए विदाई भाषण

दोस्तों के लिए विदाई भाषण

सीनियर्स के लिए विदाई भाषण

Leave a Comment