मेरे सपनों का भारत पर निबंध (2021)- Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi

Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi- मेरे सपनों का भारत पर निबंध

किसी भी देश के नागरिकों को अपने देश के प्रति एक दृष्टिकोण होता है । वह देश के बारे मे चर्चा-चिंतन करते है ।

जैसे की देश मे कैसी व्यवस्था होनी चाहिए, लोगों को किस तरह अपनी परंपराओं का सम्मान करना चाहिए, हमारे कुटुंब और समाज का स्वरूप कैसा होना चाहिए । एसी हजारो बातें हमारे मनमे उत्पन्न होती हैं ।

लेकिन फिर भी देश का विकास क्यो नहीं हो पाता ? क्योकि जब तक हम राष्ट्रहित को खुद के हित से ऊपर नहीं रखेंगे तब तक देश का विकास सही तरह नहीं हो पाएगा ।

यहा पर मैंने भी अपने देश को लेकर कुछ सपने बनाए हैं ओर कुछ निजी विचारों को इस निबंध मे सामील किया है । तो आइये जानते हे की आखिर आपके ओर मेरे सपनों का भारत कैसा होना चाहिए ।

 

शिक्षा के क्षेत्र मे 

किसी भी देश का विकास करने मे शिक्षा का सबसे बड़ा हाथ होता है । आप उठा के देख लीजिये आज की महासत्ताओ के इतिहास को । उन्होने शिक्षा के पीछे कितनी मेहनत की है ।

एसा नहीं हे की हमारे देश मे शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कोई भी पहल नहीं हुई । लेकिन आती-जाती सरकार ओर लोगो के बीच सही तालमेल ना होने की वजह से शिक्षा का विकास सही तरीके से नहीं हो पाया ।

mere sapno ka bharat essay in hindi

भारत मे शिक्षा का विकास ना होने की वजह से देश मे अशिक्षित लोगो की संख्या मे बढ़ोतरी हुई हैं । और एसे लोगो को रोज़गार नहीं मिल पा रहा है ।

अमेरिका मे हुए एक रिपोर्ट के मुताबिक गरीबी मे रहने वाले लोग शिक्षा को ही अनदेखा करते हैं । 

वर्तमान मे भारत सरकार शिक्षा को महत्व देने का प्रयास कर रही है । लेकिन फिर भी लोग शिक्षा के महत्व को नहीं समज पा रहे है ।

मेरे सपनों के भारत मे देश का हर नागरिक शिक्षित होगा ताकि हर व्यक्ति को रोजगार  मिल सके ।

इसके अलावा भारत के हर छोटे-बड़े गांव तक प्राथमिक पाठशाला पाहुचेगी । ताकि देश की भावी पेढ़ी खुशी-खुशी अपनी पढ़ाई कर सके ।

भारत के हर कोने-कोने मे पुस्तकालय (library) होगी ।

बच्चो के साथ-साथ भारतीय महिलाए भी शिक्षित और सुरक्षित होगी । 

इस तरह हमारे देश मे शिक्षित और प्रतिभाशाली लोगो की संख्या मे बढ़ोतरी होगी । इसकी वजह से भारत को विकसित देशो मे सामील होने से कोई रोक नहीं सकता ।

 

महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र मे 

महिलाओ ने अपने जीवन के हर क्षेत्र में खुद को साबित किया है । लेकिन फिर भी क्यो स्त्रियो को आज पुरुषों से नीचा दबना पड़ता है ?

भारत मे आज भी कई जगहो पर महिलाओं को केवल घर के काम-काज तक ही सीमित रखा गया है ।

क्योंकि देश मे कई लोगो यही मानसिकता है की, महिलाएं घर की चार दिवारी में ही रह सकती है ।

जब की वर्तमान मे पूरे विश्व मे महिलाएं बाहर निकल कर बड़े-बड़े क्षेत्रों में अपनी एक अलग पहचान बना रही हैं ।

mere sapno ka bharat in hindi

लेकिन क्या आपको लगता है की, भारत की एक महिला को विकसित राष्ट्र की महिला जितनी छूट-छाट मिलती है ? क्या हमारे देश की महिलाओ के साथ भेदभाव नहीं हो रहा है ?

उसके अलावा भी भारत की महिलाओ को स्त्री भ्रूणहत (कोख मे ही मार देना) जैसी खतरनाक बीमारी का सामना करना पड़ता है ।

भारत की महिलाओ को सशक्त करने के लिए हमे समाज की मानसिकता बदलनी होगी । इसी के लिए भारत मे एक अभियान चलाया गया था जिसका नाम महिला सशक्तिकरण था ।

अब धीरे-धीरे देश मे बदलाव देखने को मिल रहा है । महिलाएं पुरुषों के साथ कदम-से-कदम मिला कर चल रही है ।

मेरे सपनों का भारत एसा होगा जहा देश की हर महिला शिक्षित और सुरक्षित होगी ।

देश का हर व्यक्ति महिलाओं को पुरषों के बराबर समजे और दोनों को समान अधिकार मिले ।

क्योकि पुरुषो की तरह महिलों को भी मौका दिया जाना चाहिए ताकि वह भी अपनी एक अलग पहचान बना सके ।

महिलाओ के जीवन मे कभी भी खान-पान, पढ़ाई-लिखाई, कपड़े, रहन-सहन और रोजगार संबंधी चीजों में भेदभाव न हो । 

उसके साथ-साथ देश मे सख्त कानून बना कर बाल विवाह, दहेज हत्या, कन्या भ्रूण हत्या जैसे समाज के कुरिवाज और कुप्रथा को खत्म करने का प्रयास करे ।

 

(आदर्श विद्यार्थी पर निबंध, जानना ना भूले)

 

रोजगार के क्षेत्र मे 

जैसे हमने आगे भी बात करी के शिक्षा न मिलने की वजह से भी लोग बेरोजगार हो जाते है ।

उसके अलावा देश मे बढ़ रहे भ्रष्टाचार और घटती औद्योगिक विकास भी बेरोजगारी के क्षेत्र मे बढ़ावा करती है । 

इतिहास गवाह है की, जब भी किसी देश में बेरोज़गारी बढ़ती है तो उस देश मे अपराधो की संख्या भी बढ़ती है ।

भ्रष्टाचार की वजह से पढे-लिखे शिक्षित व्यक्ति भी अच्छी नौकरी पाने में असमर्थ हो जाता है ।

और कमजोर औद्योगिक विकास की वजह से एक अच्छे शिक्षित व्यक्ति को पर्याप्त भुगतान नहीं मिल पाता ।

mere sapano ka bharat par nibandh

जिसकी वजह से भारत के योग्य उम्मीदवार विदेश चले जाते है और दूसरे देश की वृद्धि के लिए काम करते है । 

इसीलिए तो दुनिया का कोई भी देश विकसित है या नहीं ये उस देश के रोज़गार पर निर्भर करता है ।

परंतु मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए जहा बेरोजगारी का नामो-निशान न हो ।

सरकार सभी नागरिकों के लिए समान रोजगार के अवसर प्रदान करे । ताकि भारत के हर युवा को रोजगार मिले और अपने जीवन मे वृद्धि करे ।

जिससे हमारे देश की आर्थिक स्थिति सुधरे और देश भी विकास करे ।

 

(सड़क सुरक्षा पर निबंध, एक बार जरूर पढे)

 

कृषि क्षेत्र मे 

किसी भी देश का किसान उस देश के आर्थिक विकास का एक मुख्य भाग होता है । भारत एक कृषि प्रधान देश होने के बावजूद भी किसानो की ही हालत हमारे देश मे सबसे बुरी है ।

हम इस बात से अंजान नहीं है की, हमारे देश मे प्रतिदिन हजारो किसान आत्महत्या कर रहे है । आखिर क्यो ?

हलाकी भारत सरकार किसानों की समस्या दूर करने के सतत प्रयास कर रही है । उनके लिए कई योजनाए भी चलाई जा रही है ।

mere sapno ka bharat essay in 1000 words

परंतु मेरे सपनो का भारत एसा होना चाहिए जिसमे देश के किसानो को सबसे ऊपर रखा जाये ।

उसके साथ-साथ कृषि के विशेषज्ञ को गाँव-गाँव जाकर खेती के बारे मे जाँच करनी चाहिए ।

इन लोगो द्वारा किसानों को खेती के बारे मे सही मार्गदर्शन देना चाहिए ताकि किसान हर समस्याओं से बच सके ।

किसान अपने खेतो मे पशुओं को रखते है । इसलिए हमे पशु चिकित्सक को भी गाँव-गाँव भेज कर पशु बीमारियों का इलाज करवाना चाहिए ।

भारत और विश्व मे रहे किसानो के खेत हरियाली से, घर अनाज के भंडारों से, और जीवन खुशहाली से भरा हो ।

 

औद्योगिक और तकनीकी क्षेत्र मे 

दुनिया मे जब भी कोई देश विकसित बनता है तो उसके कई कारण होते है ।

उसमे शिक्षा के बाद कोई और कारण देश को विकसित बना सकता है तो वो है औद्योगिक और तकनीकी विकास ।

पिछले कुछ सालो के अंदर भारत में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, औद्योगिक और तकनीकी विकास देखने को मिल रहा है ।

लेकिन हमे ये याद रखना चाहिए की भारत आज भी एक विकासशील देश है । इसीलिए हमे और कड़ी मेहनत करने की जरूरत है ।

mere sapno ka bharat essay in hindi 50 words

यह देख कर दुख होता है की, हमारे देश के प्रभावशाली व्यक्ति थोडे ज्यादा पैसो के लिए विदेशों में काम करके उन देशों की औद्योगिक ओर तकनीकी विकास में योगदान देते है ।

मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए जिसमे हमारा देश पूरी दुनिया मे वैज्ञानिक उत्कर्ष का केंद्र बने । (mere sapno ka bharat essay in hindi) 

और बड़ी तेजी से औद्योगिक क्षेत्रों मे काम करके विकसित देशों की श्रेणी मे अपनी जगह बनाले ।

 

जातिगत भेदभाव के क्षेत्र मे 

भारत को भले ही 1947 में अंग्रेज़ो से आज़ादी मिली लेकिन हम धर्म, रंग-रूप, आर्थिक स्थिति, जाति और पंथ के भेदभाव से आज भी आज़ाद नहीं हो पाए । आखिर क्यो ? 

यह देखना हम सब भारतीय के लिए शर्मनाक कि, देश मे आज भी कुछ एसे लोग मौजूद है, ज़ो समाज के निचले तबके के लोगों को मूल अधिकारों से भी वंचित रखने का प्रयास करते है ।

भारत के कुछ राजनेता भी जातिवाद के नाम पर नागरिकों के बीच नफरत पैदा करते हैं ।

इसके अलावा भारत मे धर्म का प्रचार करने वाले कई कट्टरपंथी और अलगाववादी समूह भी एक-दूसरे धर्म के बारे में गलत बोल कर लोगो को उकसातें हैं । इस की वजह से अक्सर देश मे अशांति का महोल होता है ।

मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए, जहा किसी भी भारतीय को जाती और धर्म के नाम पर भेदभाव न करे ।

सभी लोगो को समान अधिकार मिले और हर जगह साम्प्रदायिक एकता स्थापित हो । (mere sapno ka bharat essay in hindi) 

हमारे प्रिय रष्ट्र्पिता गांधीजी भी एसा भारत चाहते थे, जहा गरीब भी महसूस कर सके की यह हमारा भी देश है ।

बापू अक्सर कहते थे की, मै ऐसे भारत का निर्माण करना चाहता हु जहा ऊँच-नीच के वर्गो मे कोई भेद न हो ।

 

(आखिर क्यो एक व्यक्ति को ज़िंदगी मे लगातार असफलता मिलती है जानने के लिए – click here )

 

भ्रष्टाचार के क्षेत्र मे 

हमारे देश की सबसे खतरनाक समस्याओ मे से एक भ्रष्टाचार है । दुनिया के किसी भी देश के विकास मे भ्रष्टाचार एक बाधक समान है ।

भारत के कुछ सरकारी तंत्र को छोड़ कर बाकी सब ऊपर से लेके नीचे तक केवल भ्रष्टाचार में लुप्त है । हमारे देश के अधिकारी और राजनेता देश की तरक्की करने के बजाए अपनी जेब भर कर अपनी तरक्की मे व्यस्त रहते हैं ।

अगर इस बीमारी को रोका नहीं गया तो भारत पिछले कुछ सालो मे दुनिया के अल्प-विकसित देशो मे सामेल हो जाएगा । (mere sapno ka bharat essay in hindi) 

मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए, जहा कही भी भ्रष्टाचार न हो । भारत के राजनेता और अधिकारी अपने काम के लिए समर्पित हों ।

और भ्रष्टाचार को रोकने लिए कठोर से कठोर व्यवस्था और कानून बनाए जाए ।

 

गरीबी के क्षेत्र मे 

हमारे देश को अंदर से खाकर खोखला कर देने वाली समस्या यानि गरीबी, ये बात हर भारतीय नागरिक जनता है ।

यहा पर लोगों के पास रहने के लिए घर, पहेनने के लिए कपड़े और खाने के लिए अनाज नहीं है । (mere sapno ka bharat essay in hindi) 

मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए, जहा हर भारतीय के पास खाने के लिए पैसे, रहने के लिए मकान ओर पहेनने के लिए कपड़े हो और सबको समान अधिकार मिले ।

 

अपराध दर के क्षेत्र मे 

अपराध शब्द का नाम सुनते ही ऐसा लगता है कि उस देश का हर नागरिक बड़े खतरे में होगा ।

आज भारत मे अपराध का दर बड़ी तेजी से बढ़ता ही जा रहा है । जैसे डकैती, अपहरण, बलात्कार, हत्या और चोरी जैसे कई वाकियात हम आए दिन न्यूज़ मे सुनते है ।

जब इसमे बड़े घराने के लोग सामेल हो जाते है तो कुछ मामलों में तो केस भी दर्ज नहीं होता । (mere sapno ka bharat essay in hindi) 

और अगर केस दर्ज हो भी जाए तो उस केस की सुनवाई बहोत देर हो जाती है । जिसकी वजह से सही टाइम पर इंसाफ मिल ही नहीं सकता ।

मेरे सपनों का भारत एसा होना चाहिए, जहा कोई भी अपराध ना हो और हर भारतीय को कानून पर पूरा भरोसा हो ।

 

निष्कर्स 

मे ऐसे भारत की कल्पना करता हूँ जहा भारतीय नागरिकों के अंदर दया और परोपकार की भावना हो । 

देश के लोगो में बंधुत्व की भावना हो, लोग सभी धर्मो का आदर करने लगे, शोषण और अत्याचार जैसी घटनाओ को बर्दाश्त न करें ।

भारत का हर नागरिक आत्मनिर्भर, विकसित, सुखी, शिक्षित और कर्मनिष्ठ हो ।सपनों का भारत । 

इतना सब कुछ जानने के बाद शायद अब आप लोगो को पता चल गया होगा की, आखिर मेरे सपनों का भारत कैसा होगा ?

 


अब मे आखिर मे आपसे पूछना चाहता हु की, आपको यह मेरे सपनों का भारत पर निबंध (mere sapno ka bharat essay in hindi)  कैसा लगा ?

हमने पूरी कोशिस की है, ताकि आपको सरल ओर साधारण भाषा मे मेरे सपनों का भारत पर निबंध दे सके । लेकीन फिर भी आपको कोई समस्या हो तो आप हमे email करे ।

और अगर आपको इस निबंध से कुछ भी लाभ हुआ हो तो इसे शेर करना न भूले । (please share)

Thanks for reading mere sapno ka bharat essay in hindi

 

READ MORE ARTICLES :-

क्या तनाव मानसिक बीमारी का कारण है ?

ताजमहल पर एक सुंदर निबंध

स्वामी विवेकानंद पर निबंध

हाथी पर एक जबरदस्त निबंध

Leave a Comment