मेरा परिवार पर एक सुंदर निबंध (2021)- My Family Essay in Hindi

दोस्तो, आज हम मेरा परिवार पर निबंध (my family essay in hindi) जानेगे । यह निबंध आपको स्कूल, कॉलेज और कई जगहो पर काम आने वाला है ।

हम इस निबंध मे जानेगे की, आखिर मनुष्य के लिए परिवार क्यो जरूरी है ? इसके अलावा परिवार के प्रकार और उसके फायदे-नुकसान को भी जानेगे ।

हम पर भरोसा करें, मेरा परिवार पर निबंध पढ़ने के बाद शायद ही आपके मनमे इसके बारे मे कोई संदेह रहेगा ।

तो चलिए शुरू करते है ।

 

My Family Essay in Hindi- मेरा परिवार पर निबंध

 

प्रस्तावना :-

कुछ लोगो का एसा समूह जो एक ही घर मे निवास करता हो और उनके बीच खून का संबंध हो, तो उसे परिवार कहते है ।

साधारण भाषा मे समझे तो, जब एक ही घर मे दो से अधिक सदस्य रहते हो उसे परिवार कहा जाता है । जैसे की पति, पत्नी और बच्चो के समूह को हम परिवार कह सकते है ।

परिवार मे सभी लोग प्यार-मोहब्बत के साथ एक ही छत के नीचे रहते है ।

एक खुशहाल परिवार मनुष्य के जीवन का सहारा होता है । क्योकि हर मुश्किल घड़ी मे परिवार के सभी लोग एक-दूसरे का साथ देकर परेशानियों को दूर करने की कोशिश करते है । परिवार मनुष्य के व्यक्तित्व का निर्माण करता है ।  

 

परिवार की आवश्यकता क्यो है ?

किसी भी मनुष्य के लिए परिवार बहोत जरूरी है ।

जिस तरह मनुष्य का पहला शिक्षक उसके माता-पिता है, उसी तरह मनुष्य की पहली पाठशाला उसका परिवार है ।

एक परिवार ना सिर्फ मनुष्य को अंदर जे मजबूत करता है, बल्के बाहरी बुराईयों और खतरों से भी उसको बचाता है ।

mera parivar par nibandh

इसीलिए जब परिवार के किसी व्यक्ति पर कोई परेशानी आए तो, वह उसे आसानी से पार कर सकता है ।

परिवार हमे अपनी ज़िम्मेदारीयों का एहसास करा के समाज का ज़िम्मेदार नागरिक बनाता है ।

एक मनुष्य का शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास उसके परिवार मे ही हो सकता है ।

क्योकि मनुष्य को जिस तरह परिवार मे खुशहाली, स्नेह और सुरक्षित वातावरण मिलता है, वो कही और मिलना मुश्किल है ।

परिवार के साथ रहने वाले लोगों पर और अकेले रहने वाले लोगों पर कुछ सालो पहले एक परीक्षण किया गया था ।

जिससे पता चला की, अकेले रहने वाले लोगों की तुलना में परिवार के साथ रहने वाले लोग अधिक खुश होते है ।

परिवार के साथ रहने वाले लोग अपने आपको सुरक्षित महसूस करते है । इसलिए हमे परिवार की आवश्यकता है । 

जब सभी लोग आप पर शंका करेंगे तब सिर्फ आपका परिवार ही आप पर विश्वास करेगा । और आपको किसी भी दुविधा से बाहर लाने की कोशिश करेगा ।

इसी वजह से हमे परिवार की बहोत आवश्यकता है ।

 

परिवार के प्रकार :-

परिवार मे रहे लोगो की संख्या के आधार पर परिवार के दो प्रकार है । संयुक्त परिवार और एकल परिवार

अगर ज्यादा लोग हो तो संयुक्त परिवार और कम लोग हो तो एकल या छोटा परिवार । हम दोनों को बारी-बारी जानेगे ।

 

संयुक्त परिवार :

संयुक्त परिवार को साधारण भाषा मे समझे तो, एकल परिवारों का समूह यानि संयुक्त परिवार ।

एसे घरो मे एक या दो पीढ़ियों के लोग एक छत के नीचे एक साथ रहते है । सभी लोग एक साथ भोजन लेते है ।

संयुक्त परिवार मे घर का सबसे बड़ा पुरुष संपत्ति का संचालन करता है और वही परिवार के बड़े निर्णय लेता है ।

एसे परिवारों मे घर के सभी लोग संपत्ति के हिस्सेदार होते है ।

family essay in hindi

घर के सभी सदस्य हर साल आने वाले अनेक त्यौहार, धार्मिक उत्सव और पारिवारिक घटनाओं को एक साथ मनाते है । इसकी वजह से परिवार के अंदर प्यार-मोहब्बत बढ़ती है । 

संयुक्त परिवार मे बच्चो का पालन-पोषण बहोत अच्छे से होता है ।

अगर बच्चे के माँ-बाप की मृत्यु हो गई हो, तब भी संयुक्त परिवार मे उसका लालन-पालन अच्छे से होता है ।

संयुक्त परिवार मे मनुष्य को कभी अकेलापन महसूस नहीं होता, क्योकि वहा पर कई और परिवार भी होते है ।

इसके अलावा बच्चों को घर में ही खेल-कूद योग्य वातावरण मिल जाता है, जिससे उनको घर से बाहर जाने की जरूरत भी नहीं पड़ती ।

जब व्यक्ति वृद्ध हो जाए तब उसे किसी के सहारे की बहोत जरूरत होती है । क्योकि इस उम्र मे काम करना मुश्किल है ।

लेकिन अगर संयुक्त परिवार होगा तो, वृद्ध व्यक्ति की मदद करने के लिए कई लोग आस-पास होगे और उनकी देख-रेख करेंगे ।

परंतु दुनिया मे बसी हर चीज़ के फायदे और नुकसान दोनों है । इसलिए संयुक्त परिवार मे भी कुछ समस्यायें है ।

कई जगहो पर पाया गया की, संयुक्त परिवार मे महिलाओं को सम्मान कम दिया जाता है ।

संयुक्त परिवार मे महिलाओ को अपने लिए बहोत कम समय मिलता है । क्योकि उनको घर का सारा काम करना पड़ता है ।

कई बार परिवार में सदस्यों की संख्या ज्यादा हो तो आर्थिक स्थिति कमजोर होने की संभावना रहती है ।

इसके अलावा यह भी देखा गया की, पिता के मरने के बाद अक्सर संपत्ति को लेकर परिवार मे विवाद होते है । (my family essay in hindi) 

परिवार मे ज्यादा सदस्य होने की वजह से आपसी मत-भेद की संम्भावना भी अधिक रहती है ।

और इसीलिए आज संयुक्त परिवार का प्रचलन बहोत कम होता जा रहा है । लोग संयुक्त परिवार से एकल और मूल परिवार की और जा रहे है ।

 

एकल परिवार :-

एकल परिवार मे सिर्फ पति-पत्नी अपने बच्चो के साथ निवास करते है । कई बार पति या पत्नी का अविवाहित बहन या भाई भी उनके साथ रहता है ।

अक्सर देखा गया है की, एकल परिवार मे लोग आत्म निर्भर होते है । क्योकि एसे परिवारों मे स्वयं निर्णय लेने के स्वतंत्रता होती है ।

इसीलिए उनके अंदर आत्मविश्वास भी बहोत ज्यादा होता है । वह अपने बच्चो को भी स्वयं निर्णय लेने के लिये उत्साहित करते है ।

mera parivar in hindi

एकल परिवार मे लोगो के बीच भावनात्मक लगाव बहोत गहरा होता है । (my family essay in hindi) 

एक रिपोर्ट से पता चला की, जहा औद्योगिक विकास ज्यादा होता है वहा एकल परिवार अधिक होते है । इसीलिए शहरों में एकल परिवार होने की संभावना अधिक होती है ।

संयुक्त परिवारों की तरह एकल परिवार की भी कुछ समस्याए है ।

अक्सर कई नवविवाहित पति-पत्नी शादी के तुरंत बाद ही संयुक्त परिवार से अलग हो जाते है ।

जिसकी वजह से उनको जीवन मे सही सलाह देने के लिये कोई अनुभवी व्यक्ति का सहारा नहीं होता ।

इससे परिवार में लड़ाई-झगड़े होने की संभावना अधिक रहती है ।

इसके अलावा अगर बच्चे के माता-पिता दोनों ही काम-काजी व्यक्ति हो तो उनकी अच्छे से देखभाल करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है ।

एसे परिवारों मे मिल-जुल कर एक-दूसरे के सहयोग से काम करना भी मुश्किल होता है, क्योकि उनके जीवन की भाग-दौड़ बहोत ज्यादा होती है ।

लेकिन फिर भी आज एकल परिवारों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है ।

और आज तो एकल परिवार का आकार भी छोटा होने लगा है । पति-पत्नी अपने-अपने काम के सिलसिले से अलग-अलग निवास करते है और बच्चो को हॉस्टल मे भेजा जाता है ।

इस तरह एकल परिवार की भी बहोत समस्याए है । (my family essay in hindi) 

परंतु अगर एक व्यक्ति का व्यवहार और उसकी निष्ठा सही है तो उसके लिए संयुकत और एकल दोनों परिवार अच्छे है । 

 

(घरेलू हिंसा पर निबंध, एक बार जरूर पढे)

 

मनुष्य के जीवन मे परिवार का महत्व :-

किसी भी मनुष्य के जीवन मे परिवार का बहोत महत्व है, फिर वो संयुक्त हो या एकल ।  

परिवार के बीच बच्चो को स्नेह दिया जाता है और उनके साथ अच्छे से व्यवहार किया जाता है ।

बिना परिवार के एक व्यक्ति अपराधी भी बन सकता है । इसके अलावा अगर बच्चो का पारिवारिक जीवन ठीक ना हो, तो भी एक बच्चा अपराधी बन सकता है ।

विश्व मे हो रहे अपराधों मे यह पाया गया की, ज्यादातर अपराधी एसे है जिनका पारिवारिक जीवन ठीक नहीं है ।

essay on my family in hindi

अक्सर देखा गया की, बचपन मे उनके साथ परिवार द्वारा सही व्यवहार नहीं किया गया था । जिसकी वजह से उनका बौद्धिक और मानसिक विकास सही से नहीं हो पाया ।

बचपन मे परिवार द्वारा दी गई यातनाए ही उन्हे अपराधी बनाती है । इसलिए एक अच्छा परिवार होना भी बहोत जरूरी है ।

क्योकि एक बेहतर परिवार आपको प्रेम, संस्कार और अनुशासन सिखाता है । (my family essay in hindi) 

परिवार हमे छोटों से प्यार और बड़ों का सम्मान करना सिखाता है । परिवार मनुष्य को जीवन जीने का तरीका सिखाता है ।

किसी भी देश के विकास के लिए परिवार बहोत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । इसीलिए तो परिवार को देश के विकास की सीढ़ीयां कहते है ।

 

निष्कर्ष :-

एक मनुष्य की शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक और आर्थिक विकास के लिए एक परिवार ही ज़िम्मेदार है । क्योकि एक बच्चे को बचपन से ही अपने परिवार के साथ रहना है ।

अगर एक परिवार का वातावरण सही है तो उसमे पलने वाले बच्चे का भविष्य उज्ज्वल है ।

लेकिन अगर परिवार मे रहे लोगो का व्यवहार और वातावरण ठीक नहीं है तो एसे बच्चे बड़े होकर अपराधी ही बनने वाले है ।

अब यह हमारे हाथो मे है की, हमे परिवार मे अच्छा व्यवहार और वातावरण बनाके हमारे बच्चो का भविष्य उज्ज्वल करना है या उन्हे अपराधी बनाना है ।

इतना सब कुछ जानने के बाद शायद अब आप लोगो को पता चल गया होगा की, आखिर मनुष्य के लिए परिवार क्यो जरूरी है ?

 


 

अंत मे आपसे एक प्रश्न पूछना चाहता हु की, आपको यह मेरा परिवार पर निबंध (my family essay in hindi) कैसा लगा ?

हमने पूरी कोशिस की है, ताकि आपको सरल ओर साधारण भाषा मे मेरा परिवार पर निबंध दे सके । लेकीन फिर भी आपको कोई समस्या हो तो आप हमे email करे ।

और अगर आपको इस निबंध से कुछ भी लाभ हुआ हो तो इसे शेर करना न भूले । (please share)

Thanks for reading My Family Essay in Hindi

 

READ MORE ARTICLES :-

 

शिक्षक दिवस पर भाषण

शिक्षा का महत्व पर निबंध

जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

डिजिटल इंडिया पर एक निबंध

महिला सशक्तिकरण पर निबंध

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

भारतीय मोर के मज़ेदार तथ्य

Leave a Comment