(2021) ऑनलाइन शिक्षा पर सर्वश्रेष्ठ निबंध- Essay on online Education in Hindi

( online shiksha par nibandh, online shiksha, latest ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध, ऑनलाइन शिक्षा के लाभ और हानि, कोरोना और ऑनलाइन शिक्षा निबंध, ऑनलाइन शिक्षा की आवश्यकता, ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध 100, 200 और 300 शब्दों में ) 

 

दुनिया का सबसे खतरनाक वायरस यानि कोरोना वायरस की वजह से जब लॉकडाउन हुआ, तभी से यह शब्द यानि ऑनलाइन शिक्षा बहुत चर्चा मे है । इन दिनो सारे विश्व के छात्रो ने अपने-अपने घर बैठ कर शिक्षा ली थी और हमारे भारत मे तो अभी तक छात्रो को ऑनलाइन शिक्षा दी जाती है । अगर ऑनलाइन शिक्षा ना होती तो शायद हम अपने बच्चो को शिक्षा ना दे पाते ? इसीलिए आज ऑनलाइन शिक्षा हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है ।

 

ऑनलाइन शिक्षा क्या है?

ऑनलाइन शिक्षा को साधारण भाषा मे समजे तो जब एक विद्यार्थी अपने घर बैठकर किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे स्मार्टफोन, टेबलेट, कंप्यूटर और लैपटॉप द्वारा शिक्षा प्राप्त करे उसे ही ऑनलाइन शिक्षा कहते है । कई लोग ऑनलाइन शिक्षा को आधुनिक शिक्षा भी कहते है । क्योकि इसमे छात्र को शिक्षा प्राप्त करने के लिए घर से निकलने की कोई जरूरत नहीं होती । वह इंटरनेट और स्मार्टफोन द्वारा अपने घर से ही शिक्षा प्राप्त कर सकता है ।

ऑनलाइन शिक्षा मे एक शिक्षक अपने घर बैठ कर दुनिया के किसी भी कोने में बैठे अपने छात्र को सर्वश्रेष्ठ शिक्षा प्रदान कर सकता है । इसमे छात्रो को ना तो किसी ब्लैक बोर्ड के सामने बेठने की जरूरत है, और ना ही किसी क्लास (कक्षा) मे । इस तरह शिक्षक और छात्र दोनों जब घर बैठ कर शिक्षा की आप-ले करे उसे ही ऑनलाइन शिक्षा कहते है ।

 

क्यो हमे ऑनलाइन शिक्षा की आवश्यकता हुई?

वैसे देखा जाय तो पिछले कई सालो से छात्रो को ऑनलाइन शिक्षा दी जाती थी । खास कर हमारे भारत देश मे जब jio आया था तब ऑनलाइन शिक्षा को थोड़ी गति मिली थी । इस समय लोग यूट्यूब और अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से शिक्षा ले रहे थे । परंतु उस समय विश्व के कुछ ही देशो और राज्यो तक ऑनलाइन शिक्षा पहुंची थी । इस समय लोगो को ऑनलाइन शिक्षा की बहोत आवश्यकता नहीं थी ।

online shiksha par mahatv

लेकिन कोरोना वायरस की महामारी ने ऑनलाइन शिक्षा मे अचानक एक बड़ा परिवर्तन ला दिया । इस वायरस की वजह से सभी लोगो को अपने घर मे बंद होने की जरूरत पड़ी । इस समय दुनिया के सभी लोगो को शिक्षा प्राप्त करने का एक ही रास्ता दिखा, और वो था ऑनलाइन शिक्षा । इसी समय भारत ही नहीं बल्के पूरे विश्व को ऑनलाइन शिक्षा की आवश्यकता हुई और यही से ऑनलाइन शिक्षा बहोत प्रचलित हुई । हमारी स्कूलो और शिक्षको ने भी शिक्षा को ऑनलाइन ले जाकर छात्रो तक पहोचाने का फेसला कीया ।

 

ऑनलाइन शिक्षा के प्रकार

ऑनलाइन शिक्षा को मुख्य दो भागो मे विभाजित किया गया है । सिंक्रोनस शिक्षा और असिंक्रोनस शिक्षा ।

सिंक्रोनस शिक्षा मे छात्रों को एक ही समय पर शिक्षक द्वारा शिक्षा दी जाती है । इसलिए इसे लाइव टेलीकास्ट लर्निंग भी कहा जाता है । सिंक्रोनस शिक्षा मे लाइव ऑडियो और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का उपयोग किया जाता है । जब की असिंक्रोनस शिक्षा मे छात्र अपनी इच्छा के मुताबिक शिक्षा प्राप्त करता है । क्योकि इसमे सभी क्लास रिकॉर्डेड होते है । हमारे देश मे ज़्यादातर लोग इसी पद्धति का उपयोग करके पढ़ाई करते है ।

 

ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण करने के कुछ तरीके

ऑनलाइन शिक्षा को मुख्य तीन तरीको से ग्रहण किया जा सकता है । जिसमे पहला यूट्यूब के द्वारा । आज हर विषय के वीडियो यूट्यूब पर मौजूद है । देश और दुनिया का कोई भी छात्र यूट्यूब पर वीडियो देखकर फ्री मे शिक्षा प्राप्त कर सकता है ।

ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण करने का दूसरा तरीका है, गूगल । गूगल द्वारा ऑनलाइन लिखित चीजें पढ़ कर भी हम बहोत अच्छी शिक्षा ग्रहण कर सकते है । इसके अलावा अगर हमे किसी चीज़ के बारे मे जानना हो, तो हम गूगल मे सर्च करके निशुल्क ज्ञान प्राप्त कर सकते है ।

online shiksha ki aavshyakta

और ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण करने का तीसरा मुख्य तरीका है, लाइव क्लासेस करना । वर्तमान समय मे छात्र कोई भी ऑनलाइन कोर्स खरीद कर घर बैठे बहोत अच्छी तरह से पढ़ाई कर सकता है । जिसमे बायजूस, WiFiStudy , Unacademy, वेदांतु, एक्स्ट्रामार्क्स और टेस्टबुक जैसे कई अलग-अलग प्लेटफार्म के नाम शामिल है । इन प्लेटफार्म के कोर्स खरीद कर छात्र कही भी पढ़ कर शिक्षा ले सकता है ।

 

ऑनलाइन शिक्षा के लाभ और हानि

आज के दौर मे ऑनलाइन शिक्षा के बहोत लाभ और फायदे है । लेकिन दुनिया मे बसी हर चीज़ के दो पहलू होते है, जिसमे एक होता है लाभ और दूसरा होता है हानी । इसलिए ऑनलाइन शिक्षा के भी कुछ नुकसान है । हम इसके फायदे और नुकसान दोनों को बारी-बारी जानेगे ।

 

ऑनलाइन शिक्षा के लाभ

शिक्षा पृथ्वी पर रहे हर मनुष्य का मूलभूत अधिकार है । दुनिया का प्रत्येक देश अपने हर नागरिकों तक एक अच्छी शिक्षा पहोचाने की कोशिश करता है । क्योकि शिक्षा से मनुष्य अपना मानसिक, बौद्धिक और आर्थिक स्तर बेहतर कर सकता है । लेकिन जब कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन हुआ तब से शिक्षा को ऑनलाइन लोगो तक पहोचाने की जरूरत पड़ी । और पूरा लॉकडाउन लोगो ने घर बैठकर ऑनलाइन शिक्षा ली । परंतु क्या ऑनलाइन शिक्षा से हमे लाभ हुआ ?

तो इसका जवाब है, हा । ऑनलाइन शिक्षा का सबसे पहला लाभ यह हुआ की छात्र और शिक्षको के समय और पैसो की काफी बचत हुई । क्योकि यह शिक्षा घर बैठकर ली जाती थी, जिसके कारण छात्रो और शिक्षको को शिक्षण संस्थाओं मे जाने की कोई जरूरत नहीं होती थी । जिसकी वजह से उनका काफी समय बच जाता था । समय के साथ-साथ पैसे की भी बचत ऑनलाइन शिक्षा से होती थी । क्योकि शिक्षण संस्थाओं मे जाने-आने का और बाहर खाने का बहोत खर्च बच जाता था ।

इसके अलावा विध्यार्थीयो को दिये जाने वाले ऑनलाइन क्लास रिकॉर्ड होते है । जिसके कारण अगर कभी किसी छात्र का क्लास छूट जाए तो उस रिकॉर्डड को देख कर भी हम शिक्षा प्राप्त कर सकते थे । उसके साथ-साथ अगर किसी छात्र को ऑनलाइन क्लास के वक्त किसी विषय समझमे ना आए, तो वह दुबारा रिकॉर्डिंग क्लास को सुन कर अपनी शंका और दुविधा को दूर कर सकता था ।

एक शिक्षक ऑनलाइन शिक्षा से अपने घर बैठकर दुनिया के किसी भी कोने मे बैठे अपने छात्र को सर्वश्रेष्ठ शिक्षा दे सकता है । और छात्र भी दुनिया के किसी भी कोने मे बैठे अपने मनपसंद शिक्षक से शिक्षा प्राप्त कर सकता है । 

और हमने आगे भी जाना था की भारत मे कई एसे प्लेटफार्म है, जो छात्रो को अच्छी-से-अच्छी शिक्षा पहोचाने की कोशिश करते है । जिसमे बायजूस, वेदांतु और खान अकादमी जैसे कई नाम शामिल है । इन लोगो ने अपनी ऐप बनाई हुई है, जिसके जरिये वो छात्रो तक अच्छी-से-अच्छी शिक्षा पहोचाने की कोशिश करते है । इन ऐपो से जुड़ने वाले हर छात्र से यह लोग व्यक्तिगत संपर्क करते है । जिसके कारण अगर इनको कोई समस्या हो तो इनके शिक्षक तुरंत ही इनकी समस्याओं को दूर करते है ।

ऑनलाइन शिक्षा देश की महिलाओ के लिए भी एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करती है । क्योकि यहा तो घर से निकलने की कोई जरूरत ही नहीं होती । महिलाए घर बैठ कर कुछ भी सीख सकती है और दूसरों को सीखा भी सकती है । जैसे कुकिंग, सिलाई, क्राफ्ट, ड्राइंग, पेंटिंग इत्यादि ।

साधारण भाषा मे समझे तो अगर आपके पास इंटरनेट और स्मार्टफोन है, तो आप ऑनलाइन कुछ भी सीख सकते है ।

 

ऑनलाइन शिक्षा की हानिया

ऑनलाइन शिक्षा की पहली हानी यह है की, छात्र को कई घंटो तक मोबाइल या लैपटॉप के सामने बैठना पड़ता है । जिसकी वजह से उनकी आंखों और स्वास्थ्य पर बहोत ही बुरा प्रभाव पड़ता है ।

ऑनलाइन शिक्षा से एक नुकसान यह भी होता है की, उनको शिक्षा का माहौल नहीं मिलता । जिससे वह धीरे-धीरे शिक्षा से ऊब जाते है । ऑनलाइन शिक्षा मे अक्सर यह देखा गया है की, छात्र आपस मे संपर्क नहीं कर पाते । जिसके कारण उनके बीच प्रतिस्पर्धा का कोई माहौल ही नहीं होता । और अंत मे वो सिर्फ परीक्षा पास करने के लिए ही पढ़ाई करते है ।

छात्रो द्वारा इंटरनेट के गलत उपयोग करने की वजह से भी छात्र का भविष्य खतरे मे पड सकता है । क्योकि एक छात्र को ऑनलाइन शिक्षा के लिए उसके माता-पिता उसे इंटरनेट और स्मार्टफोन या लैपटॉप तो दे देते है । परंतु कई बार छात्र ऑनलाइन क्लास के बहाने मोबाइल मे गेम ही खेल रहे होते है । यह भी एक बहोत बड़ा नुकसान है, ऑनलाइन शिक्षा का ।

इसके अलावा हमारे देश के अधिकतर नागरिकों की आर्थिक परिस्थिति बहोत कमजोर है । देश मे कई लोग तो एसे है, जिनको दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं होता । अब एसे लोग स्मार्टफोन, कंप्यूटर, लैपटॉप और इंटरनेट जैसी सुविधाए कहां से लाएंगे ? और यह सभी सुविधाए ऑनलाइन शिक्षा के लिए अति-आवश्यक है । इसीलिए तो ऑनलाइन शिक्षा कई जगहो पर काफी कठिन और मुश्किल है । इसीलिए तो लॉकडाउन मे भारत के कई गरीब छात्रो तक ऑनलाइन शिक्षा नहीं पहुची थी ।

भारत के कई गावों मे आज भी बिजली नहीं है, तो वहा पर इंटरनेट होने की संभावना बहोत कम रहती है । एसी जगहो पर भी ऑनलाइन शिक्षा का कोई महत्व नहीं रहता । इसके अलावा कई जगहो पर इंटरनेट तो मौजूद है, लेकिन वहा नेटवर्क की समस्या है । एसी जगहो पर भी ऑनलाइन शिक्षा कुछ काम की नहीं रहती ।

ऑनलाइन शिक्षा मे अध्यापक को छात्रो पर नियंत्रण रखना बहोत मुश्किल हो जाता है । जबकि कक्षा मे छात्र पर नियंत्रण रख सकता है, इसलिए कक्षा मे छात्र अनुशासित होकर पढ़ाई करते है । ऑनलाइन शिक्षा मे छात्रो को शिक्षको का डर कम रहता है, जिसके कारण वह अपना होमवर्क समय पर नहीं करते । जबकि कक्षा मे छात्र होमवर्क और क्लास वर्क दोनों समय पर करते है ।

स्कूल मे अध्यापक छात्रो पर हर वक्त नज़र रखते है । किन्तु ऑनलाइन क्लास मे अध्यापक छात्रो पर सही से नज़र नहीं रख पाते । इसलिए कई बार छात्र ऑनलाइन क्लास के समय कुछ और ही कार्य कर रहे होते है । जिससे भी ऑनलाइन शिक्षा का कोई महत्व नहीं रहता ।

ऑनलाइन शिक्षा मे प्रेक्टिकल वर्क कभी नहीं हो सकता, जबके स्कूल में पढ़ाई के साथ-साथ और भी कई प्रतियोगिता कराई जाती है । जैसे की नृत्य, संगीत, योगा, खेलकूद, भाषण-लेखन प्रतियोगिता, सांस्कृतिक प्रोग्राम आदि मे बच्चे भाग लेकर और भी नयी चीजे सीखते है । लेकिन ऑनलाइन क्लास मे छात्रो को केवल स्कूल का कोर्स ही खतम कराया जाता है । इसलिए शिक्षक भी छात्रो पर सिर्फ अपना कोर्स खतम करने पर ध्यान देते है ।

इस तरह ऑनलाइन शिक्षा के फायदे और नुकसान दोनों है । परंतु इसका उपयोग करने वाले पर यह निर्भर करता है की, ऑनलाइन शिक्षा से फायदा लेना है या नुकसान ।

 

निष्कर्ष

ऑनलाइन शिक्षा मे इतनी ताकात है की, अगर वर्तमान मे विश्व पर कोई नयी आफत आजाए तो भी हमारे छात्र शिक्षा से दूर नहीं रहेंगे । परंतु इसके नुकसान भी इतने है । क्योकि अगर छात्र पढ़ाई के समय कुछ गलत कार्य करे या गंदी साइट मे चला जाए तो काफी गंभीर परिणाम छात्रो मे देखने मिलेंगे । इसीलिए हो सके उतना अपने बच्चो पर ध्यान रखे, खास कर इंटरनेट चलाते वक्त । फिर वो ऑनलाइन क्लास कर रहा हो या कोई और चीज़ देख रहा हो । तभी हम ऑनलाइन शिक्षा का सही उपयोग कर पाएंगे । और इतना सब कुछ जानने के बाद शायद अब आपको पता चल गया होगा की, आज के आधुनिक दौर ऑनलाइन शिक्षा का क्या महत्व है और वो हमारे लिए कितनी जरूरी है । (ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध)


 

और अगर आपको लगता हो की यह निबंध से आपको कुछ लाभ हुआ है, तो इसे share करना ना भूले । Thanks for reading ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध ( please share ) 

 

READ MORE ARTICLES :-

 

अनुशासन पर एक कडक निबंध

दहेज प्रथा पर निबंध

समय का महत्व पर निबंध

इंटरनेट पर निबंध

महात्मा गांधी पर निबंध

दोस्तों के लिए विदाई भाषण

वसंत ऋतु पर निबंध

मेरी प्यारी माँ पर निबंध

Leave a Comment