(2021) योग का महत्व पर निबंध- Essay on Importance of Yoga in Hindi

(योग का महत्व, योग का महत्व पर निबंध latest, योग का हमारे जीवन में महत्व पर लेख, yog ka mahatva, importance of yoga in hindi, yog ka mahatva par nibandh)

 

योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के यूज शब्द से हुई है, जिसका अर्थ होता है जुड़ना या एकजुट होना । योग मे अलग-अलग आसन होते है, जिसे अगर हम नियमित रूप से करे तो बहोत लाभ होता है । योग हमारे मन, शरीर और आत्मा को नियंत्रित करने मे बहोत मदद करता है । इसके अलावा हमारी शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक और सामाजिक स्वास्थ्य के लिए भी योग बहोत उपयोगी है । इसीलिए हमे नियमित रूप से योग करना चाहिए ।

 

योग का इतिहास

एसा माना जाता है की, योग का जन्म प्राचीन भारत मे हुआ था । उस वक्त हिमालय के एक झील पर आदियोगी ने अपने योग विज्ञान को सात ऋषियों को दिया था । और इन ऋषियों ने ही योग विज्ञान को विश्व के विभिन्न भागो मे फैलाया था । इसके अलावा सरस्वती और सिंधु सभ्यता के प्राचीन अवशेषो मे भी योग की मौजूदगी का प्रमाण है । इन सभ्यताओ के अध्ययन करने से पता चला की, वहा एक गुरु के प्रत्यक्ष मार्गदर्शन के तहत लोगो को योग का अभ्यास दिया जाता था । और इसी तरह योग का जन्म हुआ था ।

yog ka mahatv par nibandh

उसके बाद महर्षि पतंजलि  ने योग का आत्मसात किया और इसके सभी पहलुओं को एक निश्चित रूप में शामिल किया, जिसे हम योग सूत्र कहते है । इसी समय दुनिया के बहोत ज्यादा लोगो तक योग का ज्ञान पहोचा था । इसीलिए महर्षि पतंजलि की आधुनिक योग का पिता कहा जाता है ।

 

योग का महत्व

कुछ सालो पहले सिर्फ आयुर्वेदिक रूप से ही योग को महत्त्व दिया जाता था । लेकिन वर्तमान मे वैज्ञानिक रूप से भी योग को महत्त्व दिया जाता है । आज तो डाक्टर भी अपने मरीज़ो को योग करने के लिए प्रोत्साहित करते है । क्योकि इससे हमारे शरीर की रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ती है और शरीर रोगमुक्त बनता है । इसीलिए तो योग को मनुष्य का शारारिक और मानसिक उपचार कहा जाता है ।

अगर हम नियमित रूप से योग का अभ्यास करे तो जीवन मे नकारात्मक विचारों से छुटकारा पा सकते है । इसके अलावा योग करने से मनुष्य की रीढ़ की हड्डी मे लचीलापन आता है, जिससे हमारी शारीरिक स्थिति हमेशा स्वस्थ रहती है । योग हमारे अंदर ध्यान और एकाग्रता को बढाता है । योग मनुष्य के शरीर को अनुशासन मे लाकर तनाव और चिंता को दूर करने मे मदद करता है ।

yog ka mahatv

योग के एसे असंख्य लाभों की वजह से ही वर्तमान मे योग की लोकप्रियता बहोत जबरदस्त है । एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया मे करीब 2 अरब से भी ज्यादा लोग हररोज योगाभ्यास करते है ।

लेकिन योग से दुनिया के हर व्यक्ति को लाभ होना चाहिए, एसा भारत का लक्ष्य है । इसीलिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 21 जून 2015 के दिवस को अंतराष्ट्रीय योग दिवस  के रुप में मनाने की घोषणा की थी । जिसमे पहली बार लगभग विश्व के 192 देशों ने विश्व योग दिवस मनाया था । इसी दिन भारत की राजधानी दिल्ली मे करीब 35985 लोगों ने एक साथ योग किया, जिसमे 84 देशों के प्रतिनिधि मौजूद थे । 

 

योग के मुख्य प्रकार 

योग के मुख्य चार प्रकार है, राज योग, कर्म योग, भक्ति योग और ज्ञान योग । हम इन सभी को बारी-बारी जानेगे ।

  • राज योग

योग के इन चार प्रकारो मे राज योग सबसे लोकप्रिय है । इस योग का मुख्य उद्देश्य मन को नियंत्रित करना है । इसमे सूर्य नमस्कार और पदमासन जैसे आसन शामिल है । इन आसनो को करने से शरीर मे फूर्ती रहती है । इस योग का वर्णन महर्षि पतंजलि द्वारा रचित अष्टांग योग मे मिलता है । इसीलिए राज योग को अष्टांग योग भी कहते है ।

  • कर्म योग

कर्म का अर्थ है काम । जब कोई मनुष्य काम करता है, तब उसका दिमाग और मांशपेशियां दोनों ही कार्यरत होते है । जिसके कारण उसे मोटापे जैसी बिमारीया होने का खतरा नही रहता ।

इसके अलावा कर्म योग हमे बिना फल की इच्छा रखे निस्वार्थ भाव और ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन करना सिखाता है । दुनिया के सभी व्यक्तियो का जीवन उसके कर्म चक्र द्वारा ही नियंत्रित होता है । जैसे की अगर किसी मनुष्य के विचार और कार्य अच्छे है, तो एसा मनुष्य दुनिया मे एक खुशहाल जीवन जीएगा । लेकिन अगर किसी मनुष्य के विचार और कार्य बुरे है, तो एसा मनुष्य दुनिया मे बहोत दुखी जीवन जीएगा । इसीलिए कर्म योग को हमे अपने जीवन मे अपनाना बहोत जरूरी है । 

  • भक्ति योग

योग का तीसरा मुख्य प्रकार है, भक्ति योग । यह सबसे आसान योग है, क्योकि इस योग मे हमे सिर्फ शांति से बैठकर ध्यान लगाना होता है । अगर आप भगवान के नाम का जाप करे या उनकी प्रशंसा मे भजन गाए और उन्हे पूजे यह भी भक्ति योग ही है । इसी वजह से इसे आध्यात्मिक योग भी कहा जाता है । इस योग से हमारे जीवन का सारा तनाव खत्म हो जाता है । इसके साथ-साथ मनुष्य के मन और हृदय का शुद्धिकरण भी होता है ।

  • कुंडलिनी योग

जब कोई व्यक्ति उठते, बैठते, चलते, सोते हर वख्त सिर्फ ब्रह्म का ही ध्यान करे, उसे कुंडलिनी योग कहा जाता है । एसा व्यक्ति सिर्फ ब्रह्मा के ध्यान मे ही लिन होता है ।

अगर हम इन चारो योग को अपने जीवन मे अपनाले तो इस दुनिया मे शायद हम कभी शारीरिक और मानसिक दुखीं नहीं होंगे । तो क्या अब आप योग को अपने जीवन मे अपनाएँगे या नहीं ?

 

योग के मुख्य आसन

भारत के योग गुरु यानि बाबा रामदेव के अनुसार योग के कुल 84 आसन है ।

जिसमे मुख्य तौर पर मयूरासन, शीर्षासन, भुजंगासन, ताड़ासन, बज्रासन, धनुरासन, सिंहासन, गरूड़ासन, पद्मासन, गोमुखासन, हलासन, मत्स्यासन आदि सबसे ज्यादा आसन किए जाते है । इन सभी आसनो का अपना अलग-अलग महत्व है । परंतु इन सभी आसनो का लक्ष्य हमेशा एक ही होता है, मनुष्य को लाभ पहोचाना । हमारे प्रत्येक अंग को स्वस्थ रखने के लिए इन आसनों का उपयोग करना बहोत जरूरी है ।

 

योग के लाभ

  • दुनिया मे बसी हर चीज़ के दो पहलू होते है । जिसमे एक होता है लाभ और दूसरा है हानी । योग के भी लाभ और हानी दोनों है । लेकिन योग मे जब तक हम खुद कुछ उल्टा काम न करदे तब तक योग से कोई नुकसान नहीं होता । इसके अलावा योग के फायदे-ही-फायदे है ।

 

  • जैसे अगर हम नियमित रूप से योग का अभ्यास करे तो हमारे शरीर की हड्डियां मजबूत और स्वस्थ रहती है । उसके साथ-साथ हमारी मांसपेशियों मे भी लचीलापन आता है ।

 

  • योगा करने से मनुष्य की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है ।

 

  • नियमित योग करने से हमारी शारीरिक थकान और कमजोरी दूर होती है । योग हमारी आलस को दुर भगाकर शरीर मे तंदुरुस्ती भर देता है ।

 

  • योग से हमारा मन स्फूर्ति मे रहता है, जिसके कारण हमे कभी तनाव महसूस नहीं होता । इसके साथ-साथ मनुष्य के आंतरिक अंग भी योग करने से स्वस्थ रहते है ।

 

  • योग करने से हमे नींद बहोत अच्छी आती है । इसीलिए तो नींद की समस्या से जुड़े लोगो को डॉक्टर योग करने की सलाह देते है ।

 

  • ह्रदय संबधी बीमारिया, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने मे और कब्ज या पाचन की समस्या को दूर करने के लिए भी योग लाभदायक है ।

 

  • अस्थमा और मधुमेह जैसी गंभीर बीमारिया भी योग करने से ठीक हुई है ।

 

  • अगर किसी को भूलने की बीमारी हो तो उसके लिए योग सबसे बेहतर है । क्योकि योग करने से हमारी बुद्धि का विकास होता है, जिससे याददाश्त बहोत तेज हो जाती है ।

 

  • इसके अलावा कई लोग अपना वजन कम करने के लिए दवाए खाते है । लेकिन अगर वो नियमित योग करना शुरू करदे तो उनका मोटापा कम हो सकता है । इसके लिए योग गुरु कपालभाति प्राणायाम आसन करने की सलाह देते है ।

 

  • शीर्षासन आसन करने से हमारे रक्त का प्रवाह पूरे शरीर में होता है । जिससे हमारी त्वचा मे निखार आता है । शीर्षासन करने से बाल गिरने की समस्या भी दूर होती है ।इसके अलावा भी योग के कई लाभ है ।

 

योग करने का सही तरीका और नियम

  • योग करने के कई तरीके होते है । जिसमे सबसे पहला यह है की, योग के लिए आस-पास का वातावरण शांत होना चाहिए । क्योकि तभी हम पूरा ध्यान योग पर लगा सकेंगे । इसीलिए हमे सूर्योदय और सूर्यास्त के समय योग करना चाहिए ।

 

  • जमीन पर बैठकर कभी योगा नहीं करना चाहिए, इसलिए हमेशा योग करने की जगह पर चटाई या कालीन का उपयोग करे ।

 

  • स्नान करने के बाद और खाली पेट ही योग करना चाहिये और योग करने के 30 मिनट तक हमे कुछ भी नहीं खाना चाहिये ।

 

  • योग करते समय अगर सूती (कॉटन) के कपड़े पहने तो शरीर के लिए बहोत अच्छा रहता है ।

 

  • इसके अलावा अगर आपको योग सीखना हो तो हमेशा प्रशिक्षित गुरु से ही योग सीखना चाहिये ।

 

  • योगासन करने से पहले हमे हल्की कसरत या व्यायाम कर लेना चाहिए, जिससे हमारा शरीर योग के लिए तैयार हो जाए । इसके साथ-साथ हमे यह भी ख्याल रखना चाहिए की, हमेशा सरल योग से ही शुरुआत करे ।

 

  • योग करते समय कई लोग अपने शरीर के साथ जबरदस्ती करते है । वो उनकी क्षमता से अधिक अपने शरीर के अंगो को मोड़ ने की कोशिश करते है । लेकिन यह गलती हमे कभी नहीं करनी चाहिए, क्योकि इससे हमे भारी नुकसान उठाना पड़ता है । 

 

  • शरीर के किसी अंग मे अगर दर्द की शिकायत हो, तो योग ना करे । इससे भी आपके शरीर को हानी हो सकती है ।

 

  • जब आप योग सीख रहे हो तो इस बात को जरूर याद रखे की, योग का लाभ धीरे-धीरे होता है । इसीलिए जल्दी परिणाम की इच्छा ना रखकर धीरज के साथ योग करे । क्योकि इसका फल आपको देर मिलता है पर काफी फायदेमंद होता है ।

 

निष्कर्ष

वर्तमान मे कई असमज लोग योग को एक धर्म मानने लगे है । लेकिन एसे लोगो को कोन समजाए की, योग कोई धर्म नही बल्के जीने की एक कला है । योग एक एसा अभ्यास है, जिसे सीखने के बाद हमारा जीवन सफलताओ की राह पर चलेगा । क्योकि योग हमारे जीवन के एक-एक पल को मार्गदर्शन करता है । इतना सब कुछ जानने के बाद शायद अब आप लोगो को पता चल गया होगा की, आखिर योग हम मनुष्यो के लिए कितना लाभदायक है ?


अगर आपको लगता हो की यह निबंध से आपको कुछ लाभ हुआ है, तो इसे share करना ना भूले । Thanks for reading Essay on Importance of Yoga in Hindi

 

 

READ MORE ARTICLES :

 

 इंटरनेट पर निबंध

 वसंत ऋतु पर निबंध

 दहेज प्रथा पर निबंध

 मेरे सपनों का भारत पर निबंध

 स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

 मेरा भारत देश महान पर निबंध

 अनुशासन पर एक कडक निबंध

 बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

 जल प्रदुषण पर एक विचारशील निबंध

Leave a Comment